एलोवेरा के ये फायदे और नुकसान आपको ज़रूर पता होना चाहिए

एलोवेरा के ये फायदे और नुकसान आपको ज़रूर पता होना चाहिए 

एलोवेरा के फायदे और नुकसान – 

एलोवेरा का पौधा सुंदर, बेदाग और चमकदार त्‍वचा पाने का सबसे सरल तरीका है.आयुर्वेद ही नहीं पश्चिमी औषधि प्रणाली में एलोवेरा जड़ी बूटी को महत्‍वपूर्ण स्‍थान दिया गया है. औषधीय गुणों से भरपूर एलोवेरा कई बीमारियों से लड़ने और हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदे देने वाला है.

आयुर्वेद में इसे औषधियों का राजा भी कहा जाता है. एलोवेरा भले ही एक छोटा-सा पौधा है, लेकिन इसमें अनेक गुण हैं. इसके अनेक फायदों के कारण ही इसे लगभग हर घर में इस्तेमाल किया जाता है. औषधीय गुणों से भरपूर एलोवेरा कई बीमारियों से लड़ता है और हमारी स्वास्थ्य को कई फायदे पहुंचाता है.

ऐलोवेरा में अनेक गुण होने के साथ – साथ इसके कुछ नुकसान भी हैं. कहते हैं कि किसी भी चीज़ का अधिक सेवन नुकसान भी पहुंचाता है इसी तरह एलोवेरा का अधिक उपयोग करने से ये हमें क्षति भी पहुँचा सकता है.

इसलिये आज हम आपको एलोवेरा के इस्तेमाल के फायदे और नुकसान दोनों के बारे में बताएँगे जिससे आप इसका जरूरत के हिसाब से उपयोग कर सकें – 

एलोवेरा के फायदे –

(1) सूजन और दर्द में राहत –

एलोवेरा जोड़ों की सूजन के दर्द को कम करने में सहायक होता है. एलोवेरा का रस पीने से शरीर में होने वाली सूजन को कम किया जा सकता है.

(2) वजन कम करने में सहायक –

सही ढंग से शारीरिक क्रिया न करने से वजन बढ़ने की समस्या हो सकती है. ऐसे में अगर एलोवेरा जूस का सेवन किया जाए तो कुछ हद तक इस परेशानी से छुटकारा मिल सकता है.

Aloe vera in weight loss

(3) बालों व त्वचा के लिए लाभकारी –

बालों  को स्वस्थ रखने के लिए भी एलोवेरा लाभकारी हो सकता है. दरअसल, बालों को स्वस्थ रखने और झड़ने से रोकने के लिए aloe vera को हर्बल औषधि की तरह उपयोग किया जाता है.

Aloe vera for hair care

इसके अलावा यह झुर्रियों से छुटकारा पाने में भी मदद करता है. यह त्वचा को मॉइस्चराइज़ करने में भी मदद करता है.

(4) कब्ज में फायदेमंद  – 

कई लोग कब्ज के लिए तरह-तरह की दवाइयां लेते हैं, जिसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं. ऐसे में अगर प्राकृतिक चीजों का सेवन किया जाए, तो कब्ज कीपरेशानी से राहत मिल सकती है.

(5) डायबिटीज (मधुमेह) –

यह डाइबिटीज़ (मधुमेह) के इलाज में मदद करता है. Aloevera रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए जाना जाता है. इसमें ग्लूकोमान्स मौजूद हैं जो रक्त शर्करा के स्तर को कम कर देता है.

डाइबिटीस में एलोवेरा

(6) पाचन में सहायक –

एलोवेरा के लाभ की बात करें तो यह पेट और पाचन तंत्र के लिए भी फायदेमंद हो सकता है. पाचन संबंधी समस्याओं के लिए एलोवेरा जूस  का सेवन किया जा सकता है.

यह आपकी पाचन तंत्र को साफ करने में मदद करता है. यह खून को शुद्ध करने में भी मदद करता है.

एलोवेरा के नुकसान –

(1) ब्लड शुगर –

जिनको डायबिटीज है और ब्लड शुगर कम करने की दवा ले रहे हैं, ऐसे व्यक्ति एलोवेरा का सेवन न करें, क्योंकि aloevera के साइड इफेक्ट हो सकते हैं. इससे ब्लड शुगर का स्तर और कम हो सकता है.

(2) सामान्य बीमारी –

अगर किसी को पेट दर्द, मतली या उल्टी की समस्या हो तो एलोवेरा का सेवन न करें. Aloe vera में लैक्सेटिव गुण होता है, जो स्थिति को और खराब कर सकता है.

(3) गर्भवती महिलाएं –

गर्भवती  या स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसका सेवन डॉक्टरी सलाह पर ही करें, क्योंकि एलोवेरा के साइड इफेक्ट हो सकते हैं.

प्रेगनेंसी में एलोवेरा

(4) एलर्जी – 

Aloe vera का रस पीने से एलर्जी हो सकती है जैसे कि त्वचा के दाने या पित्ती, खुजली ,सूजी हुई त्वचा, साँस लेने में कठिनाई, सीने में दर्द और गले में जलन.

(5) कमजोरी –

जिन लोगों को दिल से संबंधित कोई परेशानी हो उन्हें aloevera का सेवन नहीं करना चाहिए. रोजाना इसके सेवन से अनियमित दिल की धड़कन और कमजोरी हो सकती है.

(6) डिहाइड्रेशन –

कुछ लोग वजन कम करने के लिए एलोवेरा जेल का सेवन करते हैं लेकिन इसका ज्यादा सेवन आपको खतरे में डाल सकता है. एलोवेरा का ज्यादा इस्तेमाल करने से शरीर में पानी की कमी हो सकती है.

डीहाईड्रेशन में एलोवेरा

Aloe vera जहाँ हमारे लिए लाभदायक है वही इसका अधिक सेवन करने से इससे हमारे शरीर पर नुकसान भी पहुँचता है.

ज्यादा Aloe vera जूस पीने के दुष्प्रभाव प्रमुख रुप से उन लोगों के लिए होते हैं जो बताई गई खुराक से ज्यादा मात्रा में इसका उपभोग करते हैं.

ये भी पढ़ें – 

                 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here